लेख

image post
  • Posted by:

    Brihaspati Arya
  • Posted on:

    June 27th, 2017
  • Comments:

    127
  • Total View:

    0 Views

विचार दर्शन

🔆 || विचार दर्शन || 🔆 केवलाघो भवति केवलादी || बाँटकर न खाने वाला पापी होता है | अकेले भोजन करना पशु-प्रवृति है, बाँट कर भोजन करना मनुष्य-धर्म है | हम अकेले न खाएँ, दूसरों को खिलाकर खाएँ | जो बाँटकर भोजन करता है वही मानव है, वही सच्चा याज्ञिक है | आपका हर पल […]

  • 🔆 || विचार दर्शन || 🔆

केवलाघो भवति केवलादी ||

बाँटकर न खाने वाला पापी होता है |

अकेले भोजन करना पशु-प्रवृति है, बाँट कर भोजन करना मनुष्य-धर्म है | हम अकेले न खाएँ, दूसरों को खिलाकर खाएँ | जो बाँटकर भोजन करता है वही मानव है, वही सच्चा याज्ञिक है |

आपका हर पल मंगलमय हो |स

स्नेह वंदन